-->

Latest Current Affairs 24th November,2020

 

Current Affairs 24th November 2020

नासा ने पृथ्वी के समुद्र स्तर को बढ़ाने के लिए प्रहरी उपग्रह लॉन्च किया

21,नवम्बर 2020 को नासा ने महासागरों की निगरानी के लिए कोपर्निकस सेंटिनल-6 माइकल फिलिच उपग्रह लोंच किया। सैटेलाइट को स्पेसएक्स फॉल्कन 9 रॉकेट में लॉन्च किया गया था। सैटेलाइट लॉन्च मिशन जेसन कॉन्टीनिटी ऑफ सर्विस का एक हिस्सा था। मिशन की शुरुआत समुद्र की ऊंचाई मापने के लिए की गई थी। जलवायु परिवर्तन को समझने में प्रमुख बैठकों में से एक महासागर की ऊंचाई को मापना है। अंतरिक्ष यान में 2 घटक होते हैं। अंतरिक्ष यान के अन्य घटक को 2025 में लॉन्च किया जाना है।
यह उपग्रह को राष्ट्रीय महासागरीय और वायुमंडलीय प्रशासन, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और यूरोपीय संगठन ने मौसम विज्ञान उपग्रह की खोज और फ्रेंच नेशनल सेंटर फॉर स्पेस स्टडीज़ द्वारा विकसित किया गया था।
उपग्रह समुद्र के स्तर का अवलोकन करेगा और वैश्विक समुद्र स्तर में वृद्धि को माप प्रदान करेगा। समुद्र की सतह की ऊंचाई को मापने के लिए उपग्रह पृथ्वी की सतह पर दालों को भेजेगा और वापसी के संकेतो को मापेगा। उपग्रह पृथ्वी के वायुमंडल में जल बाष्प को भी मापेगा। यह डेटा सपोर्टिंग ओशनोग्राफी भी एकत्र करेगा।
उपग्रह का नाम माइकल फिलिच के नाम पर रखा गया है जो एक पृथ्वी वैज्ञानिक है। वह 2019 में नासा से सेवानिवृत्त हुए वह एक समुद्र विज्ञानी थे।
कृष उपग्रहों ने पाया कि बर्फ की चादर उन्हें 2002 और 2017 के बीच प्रति वर्ष समुद्र के स्तर में 1.2 मिलीमीटर का योगदान दिया। ग्रेसउपग्रह को 2018 में लांच किया गया था। यह नासा और जर्मन एयरोस्पेस सेंटर का संयुक्त मिशन था। ग्रेस मिशन ने गुरुत्वाकर्षण विसंगतियों को मापा और प्लानर के चारों और कैसे बड़े पैमाने पर वितरित किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से पूरे ग्राम में पानी के वितरण को मापा।
कुंभ को नासा ने 2011 में लांच किया गया था।
जेसन-1 को 2001में, जेसन-2 को 2008 में और जेसन-3 को नासा ने 2016 में लॉन्च किया था।तीनो ने महासागर के बारे में अध्ययन किया।

नासा के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी


स्थापना- 29 जुलाई,1958
एजेंसी- एरोनोटिक्स के लिए राष्ट्रीय सलाहकार समिति
प्रकार- अंतरिक्ष एजेंसी
अधिकार क्षेत्र- संयुक्त राज्य अमेरिका की संघीय सरकार
मुख्यमथक- वॉशिंगटन डीसी
एडमिनिस्ट्रेटर- जिम ब्राइडस्टाइन
डेप्युटी एडमिनिस्ट्रेटर- जेम्स मोरहार्ड
मालिक- संयुक्त राज्य अमेरिका

SIMBEX 2020: भारत और सिंगापुर का नौसेना अभ्यास
भारत और सिंगापुर की नौसेना 23 नवंबर 2020 और 25 नवंबर 2020 के बीच अंडमान सागर में समुद्री अभ्यास SIMBEX-2020 आयोजित करने वाली है। यह अभ्यास 1994 से दोनों देशों के बीच किया जा रहा है। इस अभ्यास का उद्देश्य आपसी अंतर संचालन क्षमता को बढ़ाना है।
अब देश में भाग लेने के लिए भारतीय नौसेना के जहाज चेतक हेलीकॉप्टर, कार्वेट और कामुक के साथ राणा को नष्ट कर रहे हैं। इसके अलावा पनडुब्बी सिंधु राज और P81 टोही विमान अभ्यास में भाग लेने के लिए है।
सितंबर 2020 में भारत और सिंगापुर ने 14वीं रक्षा नीति वार्ता आयोजित की। इसे 2015 में संशोधित भारत सिंगापुर रक्षा सहयोग समझौते के तहत आयोजित किया गया था। बातचीत के दौरान देशों ने सुरक्षा साझेदारी बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।
भारत और सिंगापुर एक मजबूत लंबे समय तक सांस्कृतिक आर्थिक संबंध रखते हैं। सिंगापुर ग्रेटर इंडिया  का एक हिस्सा है।
 ग्रेटर इंडिया भारतीय उपमहाद्वीप और भारत के आसपास के क्षेत्र को संदर्भित करता है जिसने भारतीय भाषा और धर्म को अपनाया है। ग्रेटर इंडिया के यह देश संस्कृत है। ग्रेटर इंडिया को अखंड भारत भी कहा जाता है। इसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश, थाईलैंड, श्रीलंका, म्यानमार, कंबोडिया और हिंद महासागर के तटीय एशियाई देश शामिल है।
2003 में भारत और सिंगापुर दोनों देशों ने रक्षा सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसमें सिंगापुर को भारतीय जमीन पर प्रशिक्षण आयोजित करने की अनुमति दी।
2017 में देशों ने नौसेना सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिस ने दोनों देशों को अपने सैन्य ठिकानों में अपने जहाजों को फिर से ईंधन भरने, पुनर्जीवित करने और पुनर्स्थापित करने की अनुमति दी।
2018 में भारत और सिंगापुर ने नौसेना सहयोग के लिए द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसने भारतीय नौसेना के जहाजों को चांगी नौसेना बेस तक पहुंच प्रदान की। चांगी नेवल बेस विवादित दक्षिण चीन सागर के पास स्थित है।
लुक ईस्ट पॉलिसी ने देशों के बीच व्यापार को बढ़ावा देने में मदद की। आसियान के सदस्य देशों में से सिंगापुर में 38% व्यापार होता है।
 सिंगापुर के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

राजधानी- सिंगापुर
आधिकारिक भाषा- अंग्रेजी,मलायी,अकर्मण्य,तमिल
राष्ट्रीय भाषा- मलायी
सरकार- एकात्मक प्रभुत्व वादी पार्टी संसदीय संविधानिक गणराज्य
राष्ट्रपति- हलीम याकूब
प्रधानमंत्री- ली हिसयन लूंग
मुख्य न्यायाधीश- सुंदरेश मेनन
संसद अध्यक्ष- तन चुआन-जिन
मुद्रा- सिंगापुर डॉलर

महाराष्ट्र सरकार ने 'महाआवास योजना का शुभारंभ किया
21 नवंबर 2020 को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ' महा आवास योजना ' की शुरुआत की। परियोजना का उद्देश्य 100 दिनों में 8.82 लाख ग्रामीण करो का निर्माण करना है। परियोजना में शौचालय का निर्माण भी शामिल है। परियोजना का खर्चा 4000 करोड़ रुपिया दर्शाया गया है।
भारत सरकार ने हाल ही में कोविड-19 से प्रभावित प्रवासी श्रमिकों के लिए किफायती आवास योजना की घोषणा की। इसे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लांच किया गया था।

 प्रधानमंत्री आवास योजना 
प्रधानमंत्री आवास योजना का मुख्य उद्देश्य आवास इकाइयों के निर्माण में गरीबी रेखा से नीचे के ग्रामीण लोगों की मदद करना है। योजना के लाभार्थियों को सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना 2011 से चुना गया है। इसमें झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले शहरी गरीब भी शामिल है।
प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी को 2015-2022 के बीच लागू किया जा रहा है। यह शहरी स्थानीय निकायों को सहायता प्रदान करेगा जो योजना को लागू करने में नोडल एजेंसी है।
प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की जा रही है। इसका उद्देश्य 2022 तक सभी बेघर परिवारों को पक्के मकान उपलब्ध कराना है। इसका उद्देश्य 2022 तक 2.95 करोड़ घरों का निर्माण करना है। यह योजना ग्रामीण राजमिस्त्री को भी प्रशिक्षित करती है।
सस्ती रेंटल हाउसिंग कंपलेक्स यह प्रधानमंत्री आवास योजना का एक हिस्सा है। इसे आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत लोंच किया गया था। इस योजना में मुख्य रूप से उन प्रवासी श्रमिकों को लक्षित किया जो कोविड-19 के कारण अपनी नौकरी और आजीविका खो चुके थे। योजना के तहत प्रौद्योगिकी नवाचार अनुदान की घोषणा की गई थी। इसके तहत निर्माण के लिए नवाचार प्रौद्योगिकियों का उपयोग करने वाली परियोजनाओं को 600 करोड़ रुपए का व्यय प्रदान किया जाएगा।
इस योजना में मध्य आय समूह शामिल हैं जिनकी वार्षिक आय 6 लाख रुपये से अधिक है और साथ ही 18 लाख रुपये से कम है। ऋण की अवधि 20 वर्ष है।
 महाराष्ट्र के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी 

देश- भारत
स्थापना- 1 मई,1960
राजधानी- मुंबई, नागपुर
जिले-36
गवर्नर- भगतसिंह कोश्यारी
मुख्यमंत्री- उद्धव ठाकरे
उपमुख्यमंत्री- अजित पवार
राजकीय सस्तन प्राणी- भारतीय विशाल गिलहरी
राजकीय पक्षी- पिले पैर वाले हरे कबूतर
राजकीय किट- ब्लू मोर्मन 
राजकीय फूल- जरूल
राजकीय पेड़- आम का पेड़

भारत बायोटेक की कोवेक्सिन का 23 संस्थान में फेज़-3 ट्रायल शरू हो गया

स्वदेशी कोरोना वेक्सीन कोवेक्सिन की ट्रायल्स तीसरे फेज़ में आ चुका है। यह वेक्सीन को डेवलप कर रही भारत बायोटेक ने फेज़-3 ट्रायल जाहिर किया था। हरियाणा के स्वास्थ्यमंत्री अनिल विज ने  अम्बाला केंट की सिविल  हॉस्पिटल में वेक्सिन का डोज़ लगाया गया था। यह ट्रायल्स देश की 23 संस्थाओं में  25800 वॉलिंटियर्स पर होगा। यह अंतिम स्टेज का ट्रायल्स है। लार्ज स्केल ट्रायल्स में  अगर वेक्सीन इफेक्टिव साबित हुई तो आनेवाले साल को शरुआत में कंपनी उसके रेगुलेटरी अप्रूवल के लिए आवेदन करेगी 

 भारत बायोटेक की कोवेक्सिन के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी
भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और पुणे की नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी( NIV ) ने नॉवल कोरोना वायरस के  एक स्ट्रेन को आइसोलेट किया। उसकी ही मदद से हैदराबादकी जीनोम वेलि स्थित हाई कंटेंटमेंट फैसिलिटी में भारत बायोटेक ने इन एक्टिवेटेड वैक्सीन तैयार की।
वेक्सीन को इंजेक्शंस की मदद से किसी भी व्यक्ति के शरीर में दाखिल किया जा सकता है। यह वायरस जीवंत नहीं होते।परिणामस्वरूप यह  व्यक्ति को संक्रमित नही करते और उसके शरीर का विकास भी नही होता।शरीर की इम्युन सिस्टम के सामने  यह डेड वाइरस के रूप में उभर कर आता है, जिससे वाइरस के प्रति एंटीबॉडी रिस्पॉन्स डेवलप होता है।
कोवेक्सिन की ह्यूमन ट्रायल 15 जुलाई के आसपास हुई थी। पहले और दूसरे फेज़ में  हैदराबाद,रोहतक,पटना, कांचीपुरम, दिल्ही, गोवा, भुवनेश्वर और लखनऊ सहित 12 शहरों में  1000 वॉलिंटियर्स को वेक्सीन लगाने में आई थी।कंपनी का दावा है कि वेक्सीन से वॉलिंटियर्स के इम्यून रिस्पॉन्स को मजबूत करने में आया।

•वॉलिंटियर्स बनने के लिए शर्त
वॉलिंटियर्स बनने के लिए नीचे दी गई शर्त को अनुसरना पड़ता है
उम्र 18 से 99 साल के बीच होनी जरूरी है।
एनरोलमेंट से तीन महीने पहले तक कोई गंभीर बीमारी न हुई हो।
उससे पहले कोरोना पॉज़िटिव न हुये हो।
एनरोलमेंट के बाद महिलाएं कम से कम तीन महीने तक प्रेगनेंसी को अवॉइड करे, महिलाए गर्भवती न बने वह जरूरी है।
अन्य कोई क्लिनिकल ट्रायल में एनरोलमेंट न हुआ हो।
घर मे कोई कोविड-19 पेशंट न हुए हों।
HIV, हिपैटाइटिस बी या हिपैटाइटिस सी  का इंफेक्शन न हुआ हो।

ट्रायल में शामिल वोलेंटियर्स को  28 दिन के अन्तर में  दो इंट्रामस्क्युलर इंजेक्शन लगाए जाएंगे,आधे वोलेंटियर्स को कोवेक्सिन लगाई जाएगी। जबकी, अन्य को प्लेसबो लगाया जाएगा।प्लेसबो एक सलाइन वोटर  है, जिसको मात्र यह देखने के लिए लगाया जाता है, की वेक्सीन कितनी इफेक्टिव है। वोलेंटियर्स के  रेंडम के आधार पर कोवेक्सिन या प्लेसबो लगाया जाता है।

इंटरनेशनल लैंडस्केप फोटोग्राफर कॉन्टेस्ट 2020: आइसलैंड की ' लाइफ स्ट्रीम ' ओवरऑल फोटोग्राफ ऑफ द यर बनी

सातवें इंटरनेशनल लैंडस्केप फोटोग्राफर ऑफ द ईयर 2020 कंटेस्ट परिणाम जाहिर हो चुका है। दुनिया भर से 3800 एंट्री में से वर्ष का बेस्ट ओवरऑल फोटोग्राफ और बेस्ट लैंडस्केप फोटोग्राफ पसंद किया गया था। इस बार होंगकोंग के 24 वर्षीय केल्विन युएन बेस्ट लैंडस्केप फोटोग्राफर बने।उनकी 4 तस्वीरें कॉन्टेस्ट में शामिल हुई,जब कि ओवरऑल फोटोग्राफ ऑफ द यर का खिताब जर्मन फोटोग्राफर काई होरनुंग ने जीता।
आइसलैंड की इस तस्वीर को काई ने  लाइफ स्ट्रीम्स नाम दिया था। दूसरी तरफ , राशिया के कमचटका पेनीनसुल स्थित विलयूचीक स्ट्राटो ज्वालामुखी की तस्वीर तीसरे स्थान पर रही, जो इटली के फोटोग्राफर इसाबेला तबाची ने ली थी। क्रेग मेकगोवन की तस्वीर टॉप 101 तस्वीर में शामिल हुई है।सिंगल इमेज कैटेगरी में भारत के दीपांजन पाल दूसरे और अमेरिका के चांस ऑलरेड तीसरे स्थान पर रहे । नाइट स्काय एवॉर्ड केटेगरी में भारत के हिमाद्रि भुयान विनर बने।


Related Posts

टिप्पणी पोस्ट करें

Subscribe Our Newsletter