-->

Latest Current Affairs 28th November, 2020

 

Current Affairs 28th November, 2020

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 80 वे अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी 26 नवंबर 2020 को वस्तुत विभाग की भर्ती पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित किया। दो दिवसीय सम्मेलन 25 नवंबर को गुजरात के केवडियाया में शुरू हुआ था।
अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन का उद्घाटन भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया था। इसमें उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू, गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी भी शामिल थे। लोकसभा स्पीकर दो दिवसीय सम्मेलन के अध्यक्ष भी थे।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 80 वे अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए 2008 में पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा किए गए मुंबई हमले को याद किया, जिसमें पुलिसकर्मियों और विदेशी नागरिकों सहित कई मारे गए थे। उन्होंने सभी को श्रद्धांजलि दी और कहा कि भारत उन घावों को नहीं भूल सकता। उन्होंने यह भी बताया कि भारत नई नीतियों के साथ आतंकवाद से लड़ रहा है।
अपने संबोधन में उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि भारत के संविधान में कई विशेषताएं हैं, लेकिन विशेष कर्तव्यों का महत्व है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गांधीजी इस पर बहुत उत्सुक थे क्योंकि उन्होंने कर्तव्यों और अधिकारों के बीच एक करीबी संबंध देखा था। गांधीजी ने महसूस किया कि एक बार जब हम अपने कर्तव्य का पालन करते हैं तो अधिकार स्वत ही सुरक्षित हो जाएंगे।
अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन, यह सम्मेलन 1921 में शुरू हुआ और गुजरात मे इस सम्मेलन का शताब्दी वर्ष है। 25 नवंबर को हुए इस आयोजन में विभिन्न सत्रों के दौरान संवैधानिक संसाधनों पर चर्चा, जनहित याचिका की समीक्षा और अन्य विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई। लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी संविधान संशोधन पर बात की।
विभिन्न राज्यों की विधानसभाओं के कई अन्य पीठासीन अधिकारियों ने भी विभिन्न कारणों की व्याख्या, जनहित याचिका पर पुनर्विचार और विभिन्न अन्य मुद्दों पर विस्तृत विचार-विमर्श किया था।
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने 26 नवंबर को संविधान दिवस को चिन्हित करने के लिए केवड़िया टेंट सिटी में एक विशेष प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया है। यह प्रदर्शनी सदियों से उच्च लोकतांत्रिक मूल्यों को दर्शाती है जोकि ऋग्वेद काल तक बेहद दिलचस्प तरीके से वापस आती है।
संविधान दिवस पर प्रदर्शनी में यह भी दिखाया गया है कि कैसे महाजनपद, जनपद, गण और महा गण की शासन प्रशासन में अपनी निश्चित भूमिकाएं थी।
 गुजरात के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

देश- भारत
राजधानी- गांधीनगर
सबसे बड़ा शहर- अहमदाबाद
जिले- 33
गवर्नर- आचार्य देवव्रत
मुख्यमंत्री- विजय रुपाणी
उप मुख्यमंत्री- नितिन पटेल
उच्च न्यायालय- गुजरात उच्च न्यायालय
राजकीय गीत- जय जय गरवी गुजरात
राज्य नृत्य- गरबा
राजकीय सस्तन प्राणी- एशियाई शेर
राजकीय पक्षी- फ्लेमिंगो
राजकीय फूल- मैरीगोल्ड
राजकीय फल- आम
राजकीय पेड़- बरगद

भारतीय रेलवे ने डिजिटल ऑनलाइन एचआर मैनेजमेंट सिस्टम लॉन्च किया

भारतीय रेलवे ने पूरी तरह से डिजिटल ऑनलाइन मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली (HRMS) लॉन्च की है। दिल्ली बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ विनोद कुमार यादव में 26 नवंबर 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रेलवे कर्मचारी और पेंशनरों के लिए प्रणाली शुरू की।
एचआरएमएस प्रणाली भारतीय रेलवे के लिए बेहतर उत्पादकता और कर्मचारी संतुष्टि का लाभ उठाने के लिए एक उच्च जोर परियोजना है।
यह कदम भारतीय रेलवे प्रणाली की दक्षता और उत्पादकता में सुधार लाने के उद्देश्य से है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारत को डिजिटल रूप से सशक्त समाज विज्ञान अर्थव्यवस्था में बदलने की दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में एक कदम है।
 रेलवे बोर्ड के सीईओ  ने एचआरएमएस और उपयोगकर्ता डिपो के निम्नलिखित मॉड्युल लॉन्च कीए
कर्मचारी स्वंय सेवा मॉड्यूल:
यह मॉड्यूल रेलवे कर्मचारियों को डेटा के परिवर्तन के बारे में संचार सहित एचआरएमएस के विभिन्न मॉड्यूल के साथ बातचीत करने में मदद करेगा।
भविष्य निधि (पीएफ) अग्रिम मॉड्यूल:
यह मॉड्यूल रेलवे कर्मचारियो को उनके पीएफ बेलेंस की जांच करने और ऑनलाइन पीएफ अग्रिम के लिए आवेदन करने में सक्षम करेगा। कर्मचारी अपने पीएफ आवेदन की स्थिति ऑनलाइन भी देख सकेंगे।
निपटान मॉड्यूल: 
यह मॉड्यूल सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पूरी निपटान प्रक्रिया का डिजिटलीकरण करता है। यह कर्मचारियों को अपने निपटान और पेंशन बुकलेट को ऑनलाइन भरने में सक्षम करेगा।
सीमा विवरण ऑनलाइन प्राप्त किया जाएगा और पेंशन ऑनलाइन भी संसाधित की जाएगी। यह कागज के उपयोग को समाप्त करेगा और सेवानिवृत्त कर्मचारियों के निपटान बकाया राशि के समय पर प्रसंस्करण के लिए निगरानी की सुविधा प्रदान करेगा।
मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली सेवारत रेलवे कर्मचारियों के 27 लाख से अधिक परिवारों के 7 साथ साथ सेवानिवृत्त हुए लोगों को प्रभावित करेगा।
यह रेलवे प्रणाली की दक्षता और उत्पादकता में सुधार की सुविधा प्रदान करेगा।
यह प्रणाली पारदर्शिता लाने और  रेलवे के कामकाज में जवाबदेही बढ़ाएगी।
 भारतीय रेलवे के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

प्रकार- सरकारी विभाग
उद्योग- रेल वाहक
स्थापना- 8 मई, 1845
मुख्यमथक- नई दिल्ही, भारत
सेवाकृत क्षेत्र- भारत
जिम्मेदार मंत्री- पीयूष गोयल( रेलवे मंत्री), विनोद कुमार यादव(अध्यक्ष, रेलवे बोर्ड)
सेवाएं- यात्री रेलवे, मालवाहक सेवाएं, पार्सल वाहक, पार्किंग स्थल संचालन
मालिक- भारत सरकार
कर्मचारियो -12.3 लाख
विभाग- 18 ज़ोन

भारत सरकार ने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय पोर्टल लॉन्च किया

भारत सरकार ने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय पोर्टल लॉन्च किया है। यह पोस्ट ट्रांसजेंडर समुदाय को पहचान पत्र और प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन करने में मदद करेगा। यह ट्रांसजेंडर व्यक्तियों अधिकारों के संरक्षण नियम 2020 के तहत विकसित किया गया था। पोर्टल का प्रमुख लाभ यह है कि पोर्टल्स ट्रांसजेंडर्स को बिना किसी भौतिक इंटरफेस के प्रमाण पत्र प्राप्त करने में मदद करेगा। साथ ही पोर्टल ट्रांसजेंडर को उनकी स्वकथित पहचान है पहचान पत्र प्राप्त करने में मदद करेगा जो ट्रांसलेटर व्यक्तियों अधिनियम 2019 एक महत्वपूर्ण प्रावधान है।
 ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के अधिकारों का संरक्षण अधिनियम 2019 की मुख्य विशेषताएं 
अधिनियम के अनुसार ट्रांसजेंडर व्यक्ति को किसी ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया जाता है जिसका लिंग जन्म के दौरान सौंपे गए लिंग के साथ मेल नहीं खाता है।
यह अधिनियम शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य सेवा, आवास और अन्य सेवाओं में ट्रांसजेंडर के खिलाफ भेदभाव को रोकता है।
यह अनिवार्य है कि व्यक्तियों को पहचान पत्र के आधार पर ट्रांसजेंडर के रूप में मान्यता दी जाएगी। पहचान पत्र जिला अधिकारियों द्वारा जारी किए जाते हैं।
यह निवास के मामूली अधिकार को लागू करता है। 18 साल से कम उम्र के ट्रांसजेंडर्स को अपने परिवार के साथ सहवास करने के लिए मजबूर करता है।
अधिनियम के अनुसार यह ट्रांसजेंडर्स का अधिकार है कि वे सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी से गुजरे। साथ ही अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं का दावा करना उनका अधिकार है।
 ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के लिए राष्ट्रीय परिषद 
परिषद कार्यक्रमों, नीतियों, कानून और परियोजनाओं के निर्माण पर केंद्र सरकार को सलाह देती है। यह ट्रांसजेंडर व्यक्तियों की पूर्ण भागीदारी के लिए बनाई गई नीतियों और कार्यक्रमों के प्रभाव की निगरानी और मूल्यांकन करता है। यह ट्रांसजेंडर व्यक्तियों की शिकायतों का निवारण करता है। परिषद के अध्यक्ष सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री है। परिषद में ट्रांसजेंडर समुदाय के 5 सदस्य, नीति आयोग के एक सदस्य,राष्ट्रीय महिला आयोग, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य भी शामिल होंगे। इसमें केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य के घूर्णी आधार पर प्रतिनिधि भी शामिल है।

भारत और फिनलैंड ने जैव विविधता संरक्षण पर एमओयू कीया

26 नवंबर 2020 को भारत और चीन लैंग्वेज विविधता संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस समझौते पर पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और फिनलैंड के उनके समकक्ष क्रिस्टा मिकोकोन ने हस्ताक्षर किए। समझौता ज्ञापन के अनुसार देश वायु और जल प्रदूषण की रोकथाम, अपशिष्ट प्रबंधन,कम कार्बन समाधान, प्राकृतिक संसाधनों के स्थाई प्रबंधन और परिपत्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने जैसे क्षेत्रों में अपने सर्वोत्तम प्रथाओं का आदान प्रदान करेंगे। साथ ही यह देशों को तकनीकी, वैज्ञानिक और प्रबंधन क्षमताओं को विकसित करने में मदद करेगा। इसका उद्देश्य समानता पारस्परिक और पारस्परिक लाभ के आधार पर पर्यावरण संरक्षण और जैव विविधता संरक्षण के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग विकसित करना है। इससे सतत विकास को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।
पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने समझौते पर हस्ताक्षर करते समय कुछ घोषणायें की।
2005 में भारत में 2005 किस तरह की तुलना में सकल घरेलू उत्पादन की अपने उत्सर्जन तीव्रता को 21% तक कम करने का स्वैच्छिक लक्ष्य प्राप्त किया।
भारत में 2030 के लक्ष्य से पहले अपने कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए 35% हासिल करने का लक्ष्य रखा है।
पेरिस समझौते के तहत भारत ने 2030 तक गैर जीवाश्म ईंधन के आधार पर 40% इलेक्ट्रिक पावर इंस्टॉलेशन प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध किया है। इसके अलावा समझौते के तहत भारत ने 2.5 बिलियन से 3 बिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड का कार्बन सिंक बनाने के लिए प्रतिबद्ध किया है।
भारत और फ़िनलैंड  के बीच राजनीतिक संबंध 1949 में स्थापित किये गये थे। 2016 और 2017 में भारत और फिनलैंड के बीच द्विपक्षीय व्यापार 1.284 बिलियन अमेरिकी डोलर था। भारत मुख्य रूप से खनिज, ईंधन, इलेक्ट्रॉनिक सामान, खनिज तेलज़ कपास, लोहा और इस्पात मशीनरी उपकरणों का निर्यात करता है। भारत में फिनलैंड के प्रमुख नियत में परमाणु रिएक्टर, लकड़ी की लुगदी, बॉयलर आदि है।
2014 में भारत और फिनलैंड ने 19 समझौतों पर हस्ताक्षर किए। इनमें से देशों ने परमाणु ऊर्जा पर एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए। समझौते के तहत देश परमाणु विकिरण स्थापना और परमाणु सुरक्षा साझा करने के लिए सहमत हुए। इसमें रेडियोधर्मी कचरा प्रबंधन शामिल है।
 फिनलैंड के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

राजधानी- हेलसिंकी
सबसे बड़ा शहर- हेलसिंकी
अधिकारिक भाषा- फिनिश
सरकार- एकात्मक संसदीय गणतंत्र
राष्ट्रपति- सूली निनिस्टो
प्रधानमंत्री- सना मारिन
स्वायत्तता- 29 मार्च,1809
मुद्रा- यूरो

भारत ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का भूमि परीक्षण संस्करण परीक्षण किया

भारतीय सेना की सतह से सतह पर मार करने वाली सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफलतापूर्वक परीक्षण किया, जो कि हथियार के नियोजित परिजनों की एक श्रृंखला के भाग के रूप में किया गया था। ब्रह्मोस अपनी सटीक स्ट्राइक सुविधाओं के लिए जाना जाता है। ब्रह्मोस मिसाइल के भूमि हमले संस्करण का एंडमान और निकोबार में परीक्षण किया गया था। भाई सेना 40 से अधिक सुखोई लड़ाकू जेट पर ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को एकत्रित कर रही है जिसका उद्देश्य बल की समग्र लड़ाकू क्षमता को बढ़ाना है।
रेंज मिसाइल को 400 किमी तक बढ़ाया गया था। मूल रूप से सीमा 290 किलोमीटर पर थी। मिसाइल की गति 2.8 मैक या ध्वनि की गति से लगभग 3 गुना बनाए रखी जाती है।
हाल ही में भारत ने रुद्रम-1 नामक एक विकिरण रोधी मिसाइल सहित कई मिसाइलों का परीक्षण किया है जिसे 2022 तक सेवा में शामिल करने की योजना है।
 ब्रह्मोस के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

प्रकार- क्रूज मिसाइल, एयर लॉन्च क्रूज मिसाइल, एंटी शिप मिसाइल, लेंड अटेक मिसाइल सतह से सतह पर मार करनेवाली मिसाइल
उत्पत्ति का स्थान- भारत, रूस
भारतीय सेवा में - नवंबर, 2006
ब्रह्मोस का उपयोग- भारतीय सेना, भारतीय नौसेना, भारतीय वायु सेना
उत्पादक- ब्रह्मोस एयरोस्पेस लिमिटेड रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन
खर्च- 2.75 मिलीयन यूएस डॉलर
लंबाई- 8.3 मीटर
व्यास-0.6 मीटर

Related Posts

There is no other posts in this category.

एक टिप्पणी भेजें

Subscribe Our Newsletter