-->

Latest Current Affairs 13th December, 2020

 

 Current Affairs 13th December, 2020

भारत - उज्बेकिस्तान ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए
11 दिसंबर 2020 को भारत और उज्बेकिस्तान ने द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करने के लिए आभासी शिखर सम्मेलन आयोजित किया। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिखर सम्मेलन के दौरान अपने उज्बेकिस्तान काउंटरपार्ट के साथ बातचीत की। शिखर सम्मेलन मुख्य रूप से चरमपंथ, आतंकवाद और कट्टरपंथ पर केंद्रित था।
शिखर सम्मेलन के दौरान देशों ने द्विपक्षीय निवेश संधि के प्रयासों को  आगे बढ़ाने के लिए शिखर समझौते पर हस्ताक्षर किए। उन्होंने अक्षय ऊर्जा, डिजिटल टेक्नोलॉजीज, सामुदायिक विकास परियोजनाओं, साइबर सुरक्षा, डिजिटल प्रौद्योगिकियो पर अन्य समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए।
भारत और उज्बेकिस्तान विभिन्न स्वरूपों जैसे भारत मध्य एशिया वार्ता के तहत संलग्न है। शिखर सम्मेलन के दौरान भारत ने सीवरेज ट्रीटमें,  सड़क निर्माण,सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उज्बेकिस्तान की चार विकास परियोजनाओं के लिए बनाए जाने के लिए 448 मिलियन अमेरिकी डॉलर की क्रेडिट की अपनी मंजूरी की पुष्टि की। भारत ने चाबहार बंदरगाह के माध्यम से कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए भारत, ईरान और उज्बेकिस्तान के बीच एक त्रिपक्षीय वार्ता आयोजित करने की उब्जेक के प्रस्ताव का स्वागत किया। भारत ने उज्बेकिस्तान से उत्तर दक्षिण परिवहन गलियारे में शामिल होने का अनुरोध किया। यह भारत को यूरेशियन अंतरिक्ष में कनेक्टिविटी का समग्र सुधार प्रदान करेगा।
भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारतीय उम्मीदवारी के  समर्थन  के लिए उज्बेकिस्तान को धन्यवाद दिया।साथ ही, भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (2021-2023) के सफल चुनाव के लिए उज्बेकिस्तान को बधाई दी।
भरतपुर उज्बेकिस्तान सैन्य चिकित्सा और सैन्य शिक्षा में सहयोग बढ़ाने के लिए 2019 में रक्षा के क्षेत्र में तीन समझौता एमओयू पर हस्ताक्षर किए।
यह भारत और उज्बेकिस्तान के बीच आयोजित संयुक्त सैन्य अभ्यास हैं। पहला डस्टलिक सैन्य अभ्यास 2019 में आयोजित किया गया था।
जनवरी 2019 में भारत और उज्बेकिस्तान ने भारत को यूरेनियम की आपूर्ति की लंबी अवधि के लिए एक परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किए। उज्बेकिस्तान दुनिया में यूरेनियम का सातवां सबसे बड़ा निर्यातक है। कजाकिस्तान के बाद उज़्बेकिस्तान भारत को यूरेनियम निर्यात करने वाला दूसरा मध्य एशियाई देश है।
भारत और उज्बेकिस्तान में एक बिलियन अमेरिकी डोलर का वार्षिक व्यापार लक्ष्य रखा है। भारत उस जिसके साथ भी अपने संबंध को बचाने की कोशिश कर रहा है जहां चीन पहले ही अपनी भौगोलिक सन्दर्भता का लाभ उठाते हुए देश के साथ अतिक्रमण कर चुका है।
भारत न्यूज़ पाकिस्तान द्वारा भारत से वस्तुओं और सेवाओं की खरीद के लिए 40 मिलियन अमेरिकी डॉलर के ऋण की पेशकश की है।
 उज्बेकिस्तान के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी
राजधानी - ताशकंद 
सबसे बड़ा शहर - ताशकंद
आधिकारिक भाषा - उज्बेक
सरकार - एकात्मक राष्ट्रपति संवैधानिक धर्मनिरपेक्ष गणराज्य
राष्ट्रपति - शवकत मिज्योंयव
प्रधानमंत्री - अब्दुल्ला अरिपोव
सीनेट के अध्यक्ष - तंजीला नरबायेवा
मुद्रा - उज्बेक सोम

लक्षद्वीप भारत का पहला 100% कार्बनिक केंद्र शासित प्रदेश बन गया
 भारतीय द्वीप क्षेत्र, लक्षद्वीप देश मे  भारत का पहला 100% जैविक केंद्र शासित प्रदेश बन गया है और सिक्किम के बाद देश में दूसरा प्रदेश बन गया है। यह केंद्रीय द्वारा केंद्र की परंपरागत कृषि विकास योजना के तहत उचित प्रमाण पत्र और घोषणाये प्राप्त करने के बाद आता है

मुख्य योजनाए :
2005 से सिंथेटिक रसायनिक उपयोग पूरी तरह से बंद हो गया है। पिछले 15 वर्षों से द्वीप समूह के लिए रसायन और उर्वरक को का कोई शिपमेंट नहीं किया गया है।
2011 से ऑर्गेनिक प्रोडक्शन के तहत ब्यूटी की अधिकार क्षमता पहले ही प्रमाणित हो चुकी है।
कृषि में जैविक और जैविक तरीको  का कार्यान्वयन।
खाद, पोल्ट्री खाद,हरी पत्ती खाद जैसे जैविक आदानों का उपयोग।
कृषि उद्देश्य के लिए सिंथेटिक रसायणों की बिक्री, उपयोग और प्रवेश पर समान प्रतिबंध 2017 के बाद से द्वीप रासायनिक मुक्त क्षेत्र बना रहा है।
केंद्र की परंपरागत कृषि विकास योजना के माध्यम से भारत की भागीदारी गारंटी प्रणाली के तहत प्रमाणित।
संपूर्ण 32 किलोमीटर भूमि को जैविक क्षेत्र के अंतर्गत वर्गीकृत किया गया है।
150 स्वयं सहायता समूह कुंवारी नारियल तेल, टूना आचार और  गुड़ जैसे उत्पादन के लिए निर्यात को बढ़ाने के लिए काम करेंगे।

लक्षदीप के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी
देश - भारत
स्थापना - 1 नवम्बर, 1956
राजधानी- कावारत्ती
प्रशासक - प्रफुल पटेल
सांसद - मोहम्मद फैज़ल पीपी
आधिकारिक भाषा - मलयालम, अंग्रेजी
सस्तन प्राणी - तितली मछली
पक्षी - ब्राउन नोडी
पेड़ - ब्रेड फ्रूट

ADB ने अपने विकासशील सदस्यों के लिए B एशिया पैसिफिक वेक्सीन एक्सेस फैसिलिटी शरू की
एशियन डेवलपमेंट बैंक ने अपने विकासशील सदस्य APVAX एशिया पेसिफिक व्यक्ति एक्सेस फैसिलिटी के लिए लॉन्च किया है। बैंक द्वारा नव बिलियन डॉलर की वैक्सिंग पहल अपने विकासशील सदस्यों को तेजी से और न्याय संगत समर्थन की पेशकश करेगी क्योंकि वह सुरक्षित और प्रभावी कोरोनावायरस टीके की डिलीवरी और खरीद करते हैं।
एडीबी के विकासशील सदस्यों के रूप में मात्सुगु अस्कवा के अनुसार, एडीबी पिकाचू सदस्य अपने लोगों का टीकाकरण करने की तैयारी शुरू करते हैं उन्हें व्यक्ति की खरीद के साथ-साथ उपयुक्त योजनाओं और ज्ञान के लिए टीकाकरण प्रक्रिया को समान रूप से सुरक्षित और कुशल सब लोग प्रबंधित करने के लिए वित्त पोषण की आवश्यकता होती है।
उन्होंने कहा कि APVAX विकासशीलसदस्य को चुनौतियों से निपटने, महामारी को दूर करने और आर्थिक सुधार पर ध्यान केंद्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। जैसा की महामारी का प्रभाव जारी है विकासशील एशिया में आर्थिक वृद्धि 2020 में 0.4% तक बनने का अनुबंध किया गया है।
सफाई टीकाकरण कार्यक्रम आसानी से वायरस संचरण की श्रृंखला को तोड़ सकते है, जीवन को बचा सकते है और लोगो को सुरक्षित रूप से यात्रा करने, काम करने और सुरक्षित करने की क्षमता में विश्वास बहाल करके ऐसी व्यवस्था पर महामारी के नकारात्मक प्रभाव को कम कर सकते हैं।
एशियाई विकास बैंक की कोविड-19 प्रतिक्रिया प्रयासों की सर्वोच्च प्राथमिकता वैक्सिन  के लिए सामान सुरक्षित और प्रभावी पहुंच को बढ़ावा देना है।
एडीबी द्वारा चीकू का वित्तपोषण विश्व स्वास्थ्य संगठन, विश्व बैंक समूह, GAVI, COVID-19 व्यक्ति ग्लोबल एक्सेस फैसिलिटी- COVAX और द्विपक्षीय और बहुपक्षीय भागीदारों सहित अन्य विकास भागीदारों के साथ निकट समन्वय में होगा।

शिक्षको और प्रशिक्षकों के समर्थन कौशल के लिए BYJU'S  के साथ  NSDC ने सहमति पत्र पर एमओयू किया
10 दिसम्बर, 2020 को  The National Skill Development Corporation (NSDC) ने शिक्षकों और प्रशिक्षकों के कौशल का  समर्थन करने के लिए BYJU'S  के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए। यह साझेदारी स्किल इंडिया मिशन के हिस्से के रूप में है। इस मिशन का उद्देश्य बच्चों और युवाओं के लिए सीखने का बहुत प्रभावी, आकर्षक और व्यक्तिगत बनाने के लिए कौशल और डिजिटल पूर्ण के साथ शिक्षकों और प्रशिक्षकों को सशक्त बनाना।
इस साझेदारी के हिस्से के रूप में, BYJU'S,  शिक्षकों की मदद करने के लिए अपनी शैक्षणिक सामग्री और उपकरण तक मुफ्त पहुंच प्रदान करेगा।
इसके अलावा BYJU'S अपनी डिजिटल से शैक्षणिक सामग्री को एनएसडीसी इकोसिस्टम के साथ मुफ्त लाइसेंस के रूप में साजा करेगा।
यह एक गुणवत्त्ता सीखने के अनुभव के लिए शिक्षकों और  छात्रों से लैस है।
साझेदारी के तहत, ई- स्किल इंडिया, NSDC की डिजिटल स्किलिंग पहल BYJU'S को जागरूकता बढ़ाने और इसके डिजिटल टूल्स को अपनाने में मदद करेगी और साथ ही NSDC  इकोसिस्टम में हितधारकों को BYJU'S के डिजिटल सम्मेलनों द्वारा प्रदान किये गए संसाधनों का उपयोग करने की भी अनुमति देगा।
यह गठबंधन डिजिटल इंडिया के विजन कक हांसिल करने में मदद करेगा।
यह ऑनलाइन सीखने को भी  बढ़ावा देगा।
 BYJU'S  के बारे में महत्वपूर्ण  जानकारी
प्रकार - निजी 
उद्योग - एडटेक, डिस्टेंस एजुकेशन, एम लर्निंग
स्थापना - 2011
स्थापक - बायजु रवेंद्रन
मुख्य मथक - बेंगलुरु, कर्नाटक, भारत
सेवाकृत क्षेत्र - बहुराष्ट्रीय
कर्मचारी - 9000

Related Posts

There is no other posts in this category.

टिप्पणी पोस्ट करें

Subscribe Our Newsletter