-->

Latest Current Affairs 2 nd December, 2020

Current Affairs 02nd December, 2020

 1 दिसम्बर : विश्व एड्स दिन 


हर साल 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है। यह दिवस 1998 से मनाया जा रहा है। यह एचआईवी संक्रमण के प्रसार के खिलाफ जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। यह विश्व स्वास्थ्य संगठन के 11 अधिकारी वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक है।

इस साल 1 दिसंबर 2020 की विश्व एड्स दिवस की थीम 

 Global Solidarity and Shared Responsibility  है।

हर साल नवंबर के अंतिम सप्ताह को एड्स जागरूकता सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। पहला एड्स जागरूकता सप्ताह 1984 में सन फ्रांसिस्को में मनाया गया था।

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन के अनुसार 2017 तक भारत में लगभग 2.14 मिलियन लोग एड्स के साथ रहते है। भारत 2018 तक दक्षिण अफ्रीका और नर्सरी के बाद दुनिया में एड्स के सारे व्यक्तियों की तीसरी सबसे बड़ी आबादी का घर है। हाला की व्यापकता दर भारत में एड्स कई अन्य देशों की तुलना में कम है। 2016 में भारत में एड्स की व्यापकता दर 0.3% थी। यह दुनिया में 80 वा उच्चतम था। भारत एंटीरेट्रोवायरल दवाओ और शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से बीमारी से लडता है।

 नेशनल ऐड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन(NACO) के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी  


 संक्षिप्त नाम - नाको

स्थापना - 1992

उद्देश्य - भारत मे एचआईवी/एड्स नियंत्रण कार्यक्रम

मुख्यमथक - नई दिल्ही


नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन की स्थापना 1992 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत की गई थी। यह भारत में एड्स को नियंत्रित करने में नेतृत्व करता है। यह नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल स्टैटिस्टिक्स इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के साथ हर 2 साल में एक बार बीमारी का अनुमान लगाता है। भारत में इस तरह का पहला अनुभव 1998 में किया गया था और आखरी 2017 में किया गया था।

नाको ने अपने केंद्रों की संख्या बढ़ाकर मुक्त एंटीरेट्रोवायरल उपचार 54 से 91 तक प्रदान किया है। देश में एड्स रोगियों की संख्या 2020 में मुख्य तौर पर कोविड-19 के कारण बढ़ी है। देश में एक को कम करने के लिए लागू सरकारी कार्यक्रम कोविड-19 संकट के कारण रुक गए है।

नाको स्वैच्छिक रक्तदान कार्यक्रम आयोजित करता है। सटीक परिणाम और बड़े पैमाने पर स्क्रीनिंग के लिए ना को दिशा निर्देशों के अनुसार हिमोग्लोबिन मीटर विश्लेषक की सिफारिश की गई विधि का उपयोग हेमब्लयू 301/ मोक्षीट चंदा - ऐएम 005ए जैसे माइक्रोक्यूवेटरी के आधार बिंदु पर संपूर्ण डॉक्टर के अवशोषण माप के रूप में किया जाता है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में प्रयागराज वाराणसी खंड की सिक्स लेन नवीनीकरण परियोजना का उद्घाटन देव दिवाली महोत्सव में किया


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 नवंबर 2020 को राष्ट्रीय राजमार्ग 19 के प्रयागराज वाराणसी खान की सिक्स लेन नवीनीकरण परियोजना का उद्घाटन किया, जिससे दोनों शहरों के बीच यात्रा का समय 1 घंटे कम हो जाएगा। वाराणसी की यात्रा पर उन्होंने विश्व प्रसिद्ध देव दिवाली महोत्सव में भी भाग लिया।

यह पहली बार था जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शानदार देव दिवाली महोत्सव में भाग लिया। कोरोनावायरस महामारी के फैलने और लगभग 9 महीने के अंतराल के बाद यह प्रधानमंत्री की काशी यात्रा भी होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ मंदिर गलियारे परियोजना की समीक्षा के क्रम में काशी विश्वनाथ मंदिर का भी दौरा किया।

वाराणसी दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ विश्व प्रसिद्ध देव दिवाली समारोह में शिरकत की।

देव दिवाली रोशनी का विश्व प्रसिद्ध त्योहार है। यह वाराणसी में कार्तिक माह की प्रत्येक पूर्णिमा को मनाया जाता है। प्रधानमंत्री ने राजघाट पर दिया जलाकर महोत्सव की शुरुआत की। जिसके बाद गंगा नदी के दोनों किनारों पर 11 लाख दीप जलाए गए।

अपनी यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिक्स भजन नवीनीकरण पर योजना को समर्पित किया जो राष्ट्रीय राजमार्ग 19 के प्रयागराज और वाराणसी खंड की है। नई चोरी और सिक्स लैंड वाली नेशनल हाईवे 19 में 73 किलोमीटर का फैलाव है और इससे कुल मार्ग के साथ बनाया गया है। इसका खर्च 2447 करोड़ है। यह वाराणसी और प्रयागराज के बीच स्कूल जाते समय को 1 घंटे तक कम करने की उम्मीद है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वाराणसी के के दौरे पर काशी विश्वनाथ मंदिर गलियारा परियोजना की एक साइड का दौरा किया जो इसकी प्रगति की समीक्षा करने के लिए निर्माणाधीन है।

प्रधानमंत्री ने सरहद के पुरातात्विक स्थल पर लाइट एंड साउंड शो में भी भाग लिया। इसका उद्घाटन उनके द्वारा नवंबर 2020 में किया गया था।


एआर रहमान को बाफ्टा ब्रेकथ्रू इंडिया 2020-2021 के लिए राजदूत नियुक्त किया गया


30 नवम्बर, 2020  के दिन संगीतकार एआर रहमान को ब्रिटिश एकेडमी ऑफ फ़िल्म  एन्ड टेलीविजन आर्ट्स(बाफ्टा) की पहल बाफ्टा ब्रेकथ्रू इंडिया 2020-2021 के लिए राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया था। यह पहल नेटफ्लिक्स द्वारा समर्थित है।

 एआर रहमान के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी उन्होंने 1991 में मणि रत्नम द्वारा निर्देशित फिल्म रोजा के लिए संगीत निर्देशक के रूप में शुरुआत की।

उन्होंने रोजा के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किया पहली बार एक नवोदित कलाकार को सम्मान प्राप्त करने के लिए उन्हें यह मौका मिला।

उन्होंने विभिन्न भाषाओं में कम किया है जिनमें तमिल, तेलुगू, हिंदी, अंग्रेजी और चीनी शामिल है।

उनकी प्रसिद्ध कार्यों में शामिल है मुंबई जोधा अकबर, कपल्स रिट्रीट, 127 ओवर्स,  वॉरियर्स ऑफ हेवन एंड अर्थ और पेले।

ए आर रहमान ने 2019 में फिल्म स्लमडॉग मिलियनेयर के लिए मूल स्कोर और मूल गीत के लिए दो अकादमी पुरस्कार जीते।

उन्होंने सर्वश्रेष्ठ मूल स्कूल के लिए 2019 में स्लमडॉग मिलेनियर के लिए गोल्डन ग्लोब भी जिता, जिसके लिए उन्होंने 2009 में  बाफ्टा एवोर्डस भी जीते।


 बाफ्टा ब्रेकथ्रू इंडिया 

फिल्म में काम करने वाली 5 प्रतिभाओं की पहचान करना, उन का जश्न मनाना और समर्थन करना यह बाफ्टा उद्देश्य की पहल है। भारत में टेलीविजन या खेल की पहल है।

ब्रिटिश और भारतीय उद्योग के विशेषज्ञों की एक जूरी पूरे भारत में 5 प्रतिभाओं को 1 वर्ष के मार्गदर्शन और मार्गदर्शन कार्यक्रम  के लिए चुनेगी।

पहन के प्रतिभागियों को एक से एक मेटरिंग, ग्लोबल नेटवर्किंग के अवसर, बाफ्टा इवेंट्स के लिए मुक्त एक्सेस और 12 महीनों के लिए स्क्रीनिंग और पूर्ण मतदान बाफ्टा सदस्यता प्राप्त होंगी।

18 साल से अधिक आयु के लोग आवेदक अनुभव मानदंड को पूरा करने के लिए सफलता की पहल कर सकते हैं।


डुअर सरकार अभियान : पश्चिम बंगल न्यू पब्लिक आउटरीच अभियान

पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा डुअर सरकार आउटरीच कार्यक्रम शुरू किया गया है। कार्यक्रम के तहत स्थानीय निकाय स्तर ऊपर शिविरों का आयोजन किया जाना है। शहरों में शिविरों का आयोजन निगमों द्वारा और ग्राम स्तर पर ग्राम पंचायत द्वारा आयोजित किया जाना है। स्थानीय निकाय 1 दिसंबर 2020 और 30 जनवरी 2020 के बीच शिविरों की मेजबानी करेंगे। इन शिविरों के माध्यम से राज्य सरकार सरकारी सेवाओं को बंगाल के लोगों की चौखट तक ली जाएगी। सरल शब्दों में बंगाल के लोग कार्यक्रम के तहत लगाए जाने वाली शिविरों के माध्यम से विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। कार्यक्रम के तहत शामिल प्रमुख योजनाएं है। कन्याश्री, शिक्षाश्री और ख्याति सारथी। इसमें रूपश्री, तपोसिली, बंधु आख्याश्री जैसी अन्य योजनाए भी शामिल है।

डुअर सरकार का अर्थ है सरकार द्वारा अभियान।


 डुअर सरकार अभियान में शामिल योजना

कन्याश्री एक नकद हस्तांतरण कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य लड़कियों को स्कूल में बनाए रखना और जल्दी शादी को रोकना है।

खाडी सथी कार्यक्रम का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि 90% आबादी खाद्य सुरक्षा के अंतर्गत आती हैं।

शिक्षा श्री कार्यक्रम अनुसूचित जन जाति और अनुसूचित जाति के छात्रों को कक्षा 5 से कक्षा 8 तक के अध्ययन के लिए एकमुश्त अनुदान प्रदान करता है।

रूप श्री कार्यक्रम के तहत उनकी बेटी की शादी के दौरान समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को ₹25000 का एक बार का वित्तीय अनुदान प्रदान किया जाता है।

जय जोहार योजना अनुसूचित जनजातियों की बेहतरी के लिए काम करती है।

तपोसिली बंधु अनुसूचित जाति के लोगों के लिए पेंशन योजना है।

 अखयश्री कार्यक्रम राज्य में अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करता है।

इन योजनाओं के अलावा अभियान पेंशन, विधवा विकलांग व्यक्तियों से संबंधित योजनाओं पर भी ध्यान केंद्रित करेगा।

कार्यक्रम के तहत लगाए जाने वाले शिविर में विभिन्न सरकारी योजनाओं और सेवाओं का लाभ देंगे। कार्यक्रम के लिए संचालन प्रक्रिया का मानक पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा तैयार किया गया था। शिविर चार चरणों में आयोजित किया जाना है। इस चरण के अनुभव का उपयोग बार के चरणों में सेवाओं को वितरित करने के लिए किया जाना है।

पश्चिम बंगाल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी


देश - भारत

स्थापना - 26 जनवरी, 1950

राजधानी- कोलकाता

सबसे बड़ा शहर - कोलकाता

जिले - 23 

राज्यपाल - जगदीप धनखाड

मुख्यमंत्री - ममता बनर्जी

अधिकारिक भाषा - बंगाली

राजकीय सिद्धान्त - सत्यमेव जयते

राजकीय सस्तन प्राणी - फिशिंग केट

राजकीय पक्षी - सफेद गलेवाला किंगफिशर

राजकीय फूल - रात फूल चमेली

राजकीय पेड़ - चटीम का पेड़

Related Posts

There is no other posts in this category.

एक टिप्पणी भेजें

Subscribe Our Newsletter