-->

गंगा उत्सव 2020

  • 2 नवंबर 2020 के दिन गंगा उत्सव को आभासी रूप से शुरू किया गया। यह महोत्सव 4 नवंबर 2020 तक चलेगा। 
  • इस उत्सव का आयोजन राष्ट्रीय मिशन फॉर क्लीन गंगा और भारत के जल शक्ति मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है।
  • इस उत्सव को मनाने का मुख्य कारण गंगा नदी को राष्ट्रीय नदी घोषित करने की 12वीं वर्षगांठ है।
  • इस साल के उत्सव में गंगा नदी को शुद्ध करने के लिए रची गई गंगा टास्क फोर्स ने एनसीसी के कैडेटों के साथ मिलकर वनीकरण अभियान चलाया है।
  • स्वच्छ गंगा के लिए राष्ट्रीय मिशन को 12 अगस्त 2011 के दिन सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के तहत पंजीकृत किया गया था।
  • इस मिशन को लागू करने का मुख्य उद्देश्य गंगा नदी का कायाकल्प, सुरक्षा और प्रबंधन है।
  • इस मिशन के तहत उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल राज्य के जहां से गंगा नदी बहती है उन राज्य में गंगा नदी को शुद्ध करने के लिए अलग-अलग कार्य किए जाएगे।

गंगा नदी के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी:

कौन से देशों में से बहती है: भारत और बांग्लादेश

नदी के किनारे के मुख्य शहर:

उत्तराखंड में ऋषिकेश और हरिद्वार

उत्तर प्रदेश में आगरा, कानपुर, प्रयागराज वाराणसी इत्यादि

हरियाणा में फरीदाबाद और यमुनानगर

झारखंड में साहिबगंज और राज महल

बिहार में भागलपुर पटना और कटिहार

पश्चिम बंगाल में मुर्शिदाबाद, प्लासी, कोलकाता, हल्दिया, हावड़ा, बैरकपुर

नदी का स्त्रोत: गंगोत्री ग्लेशियर

उद्भव का स्थान: उत्तराखंड, भारत

नदी का मुंह: बंगाल की खाड़ी

नदी की कुल लंबाई: 2704 किलोमीटर

नदी का बेसिन एरिया: 1320000 वर्ग किलोमीटर

बाएं से मिलती सहायक नदियां: गर्रा, गोमती, रामगंगा, घाघरा, गंडक, महानंदा, बूढ़ी गंडक, कोसी, ब्रह्मपुत्र

दाएं से मिलती सहायक नदियां: यमुना, तमसा, सोन, पुनपुन, फल्गु, क्यूल, चंदन, अजय, दामोदर और रूपनारायण

Latest Current Affairs in Hindi: 2nd November 2020

Telegram Group Link: Click Here

WhatsApp Group Link: Click Here

टिप्पणी पोस्ट करें

Subscribe Our Newsletter